Tulsi Benefits In Hindi – Tulsi Ke Fayde – जानिए तुलसी के बड़े आयुर्वेदिक फायदे

Tulsi Benefits In Hindi आज हम बात करेंगे औषधीय दिव्य औषधीय पौधे Tulsi Benefits के बारे में Tulsi का पौधा अनेकों रोगों में फायदेमंद होता है यह गुणों की खान है। यदि आपको तुलसी का सही प्रकार से सेवन करना आता है आप Tulsi Benefits (तुलसी के गुणों) को जानते हैं तो आप कभी भी रोगी नहीं पड सकते।

यदि आप अपने घर में अपने घर की छतों पर या फिर अपने खाली प्लाट में चारों तरफ तुलसी के पौधे लगा दें और उनके बीच में आप बैठकर रोज सुबह प्राणायाम करें तो आपके शरीर के अंदर अत्यधिक अत्यधिक लाभ आपको इससे मिलेगा।

मैं जितने फायदे बताऊंगा इसके बारे में उतना ही कम पड़ेंगे यदि आपके पास में साधन है स्थान हैं तो आप अवश्य ही Tulsi Plant तुलसी के पौधे अधिक मात्रा में लगाएं और उनके बीच में बैठकर प्राणवायु को लम्बा गहरा छोड़ने का अभ्यास करें प्राणायाम करें व्यायाम करें आपका शरीर बलवान बनेगा आप वीर्य वान बनेंगे Tulsi Benefits के कारण ।

दोस्तों मैं चाहूंगा कि आप आज प्रतिज्ञा करें कि आप अपने घर में अपने ऑफिस में या फिर जहां पर भी आपको स्थान दिखता है वहां पर Tulsi का Plant अवश्य ही लगाएंगे और उसकी सेवा जरूर करेंगे और आप उससे और भी अनेक व्यक्ति उससे औषधीय लाभ अवश्य ही उठाएंगे शारीरिक लाभ अवश्य ही उठाएंगे। दूसरों को भी Tulsi Plant (तुलसी का पौधा) लगाने की प्रेरणा दिया कीजिए।

Tulsi Plant के विभिन्न भाषाओँ में नाम
Sanskrit Name संस्कृतवृंदा, सुगन्धा, अमृता
Hindi Name हिंदी तुलसी, वेष्णवी
English Name अंग्रेजी Holy Basil
Latin Name लैटिनOcimum Sanctum

Tulsi benefits In Hindi वायु परदुषण दूर करे

Tulsi Benefits में तुलसी का पौधा वातावरण की शुद्धि के लिए बहुत ही ज्यादा उपयोगी पौधा है आज आप देख ही रहे हैं संसार में चारों तरफ फैक्ट्री का धुआं, गाड़ी का धुआं, कोई पन्नियों को जला रहा है कोई प्लास्टिक को जला रहा है अपनी इस सुन्दर पृथ्वी घर को नष्ट करने का पूरा प्रबंध मनुष्य ने कर दिया है।

Tulsi Benefits - Tulsi Ke Fayde - जानिए तुलसी के बड़े आयुर्वेदिक फायदे

दोस्तों लेकिन जो तुलसी का पौधा है यदि आप तुलसी के पौधे को लगाएं अपने घरों में अलग-अलग स्थानों पर तो तुलसी का पौधा ऐसा है जो 24 घंटे ऑक्सीजन देता है और प्रदूषण को खत्म करता है इसीलिए तुलसी का पौधा अधिक मात्रा में हमें लगाना चाहिए किसान अपने खेतों में लगा सकता है हर जगह इसको लगा सकते हैं कोई अधिक स्थान ये घेरता नहीं है।

और सिर्फ ऐसा ही नहीं है कि ऑक्सीजन ही 24 घंटे देता हो बल्कि इसके पत्तो को छूते हुए जो वायु गुजरती है उस वायु में भी औषधीय गुण बढ़ जाते हैं और फिर सांस के द्वारा जिस मनुष्य जिस जिव के अंदर वह वायु प्रवेश करती है उसके कई रोगों को नष्ट कर देती है

उल्टी रोकने के लिए तुलसी का प्रयोग Tulsi benefits

जब उल्टी होने वाली हो ऐसा लगता है कि जी मिचला रहा है और आप सोचते होंगे उस समय की अब क्या करूं तो आपके लिए आसान सा उत्तर यह है कि यदि आपके घर में तुलसी का पौधा है तो आप तुलसी के 4 पत्ते तोड़ लीजिए इसका रस निकाल लीजिये और थोड़ा सा रस अदरक का लीजिये उसमें थोड़ा सा शहद भी मिला ले और अब इसको आप चाट ले और आपको इसका तुरंत आश्चर्यजनक फायेदा मिलेगा आपका जो जी मिचला रहा था उल्टी की संभावना लग रही थी वह तुरंत ठीक हो गया है और आप देखेंगे की यह पौधा आपके घर का वैध सिद्ध होगा।

निमोनिया में तुलसी का फायदा

यदि किसी को निमोनिया है या सर्दी लगी हो या जुखाम हो गया हो या कफ हो तो उन सभी के लिए यह तुलसी रामबाण का कार्य करेगी।

कफ सिरप ओषधी बनाने की विधि – तुलसी की कोपलो के समेत तुलसी की पत्तियों को भी तोड़ लीजिए लगभग 50 ग्राम अब इसमें 25 ग्राम अदरक और 15 ग्राम काली मिर्च और 10 ग्राम इलायची इनको कूट लें और इन्हे आधा किलो पानी में उबालें जब ये काढ़ा 200 ग्राम रह जाए तो इसे छानले अब इसमें आप धागे वाली मिश्री कूट कर मिला लीजिए मिश्री इतनी मिलाइए की ये काढ़ा थोड़ा गाढ़ा सा हो जाए ।

सेवन विधि- सुबह 2 चम्मच ओर शाम को 2 चम्मच ले।

इसके प्रयोग से निमोनिया में लाभ मिलेगा और जो कफ से संबंधित रोग हैं छाती में वह भी ठीक हो जाएंगे। अब ये आपका बहुत ही अच्छा कफ सिर्फ तयार हो गया है।

छोटे बच्चो नवजात शिशु के लिए उपयोग विधि

जिन छोटे बच्चों को खांसी हो कफ का रोग हो उनके लिए तुलसी बहुत ही अधिक लाभदायक सिद्ध होती है आप एक या दो तुलसी के पत्तों से रस निकाल लीजिए अब दो बूंद रस में थोड़ा सा शहद मिलाकर चटा दीजिए । यह बहुत ही ज्यादा लाभदायक प्रभाव कारी औषधि है इसके प्रयोग से कफ के रोग में आराम मिलता है।

Tulsi benefits से बड़ो की खांसी ठीक करने का तरीका

यदि बड़े व्यक्तियों को खांसी हो जाए और ज्यादा खांसी रहती है तो आप तुलसी के कुछ पत्ते लीजिए 7 पत्ते और उसको उबाल लीजिए काढ़ा बना लीजिए और इस काढ़े को पीजिये ऐसा करने से आपकी खांसी में बहुत ही ज्यादा आराम मिलेगा ओर वह ठीक हो जाएगी चाहे कैसी भी खांसी हो एलर्जी हो कुछ भी हो।

Tulsi benefits से सास और दमा के रोग में तुलसी का उपयोग

यदि आपको सांस से संबंधित कोई रोग है आपको दमा है तो इसमें भी Tulsi Benefits बहुत ही ज्यादा है। आप इसका प्रयोग करके देखेंगे तो आपको बहुत ही ज्यादा लाभ मिलेगा।

Tulsi Benefits ओषधि बनाने की विधितुलसी के पत्ते, गुलबनफ्सा, ओर मुलेठी (गुलबनफ्सा, ओर मुलेठी आपको पनसारी के पास मिल जाएंगे) इनका काढ़ा बनाकर सुबह-शाम सेवन कीजिए इसके सेवन से आपका श्वांस का जो रोग है दमे का जो रोग है उसमें बहुत ही अत्यधिक लाभ मिलता है।

Tulsi benefits से बच्चो के निमोनिया को ठीक करने का तरीका

निमोनिया को ठीक करने में तुलसी रामबाण का कार्य करती है। तुलसी के पत्तो का 15 ग्राम रस लीजिए ओर इसे बादाम रोगन में या देसी गाएं के घी में धीमी धीमी आंच पर पकाएं। जब ये पक कर त्यार हो जाए तो इससे बच्चो कि मालिश कीजिए ऐसा करने से बच्चो का शरीर मजबूत बनेगा उनकी मास पेशियां मजबूत बनेगी । रोगप्रतिरोधक क्षमता का विकास होगा ओर निमोनिया में काफी फायदा प्राप्त होगा। इससे बच्चो को मौसम को सहने की क्षमता भी बढ़ेगी।

Tulsi benefits से भूख कम या ना लगने पर क्या करें

यदि आपको भूख नहीं लगती या कम लगती है तो आप तुलसी के पत्ते, काली मिर्च, अदरक, सेंधा नमक और थोड़ी सी मिर्च मिलाकर इसकी चटनी बना लें अब इस चटनी को भोजन के साथ खाएं । ऐसा करने से भूख बढ़ती है पेट के रोग दूर होते हैं। पाचनतंत्र कमजोर है, अग्नि मंद है आदि सभी में लाभ होगा।

सावधानी तुलसी की पत्तियों को ज्यादा ना लें

स्वास्थ्य से सम्बन्धित अन्य लेख लेख पढने के लिंक
लम्बे गहरे साँस लेने छोड़ने की क्रिया लेख पढ़ें
आयुर्वेद की अनूठी चिकित्सा – सच्ची कहानीलेख पढ़ें
yog nidra क्या है विधि क्या है ? क्या चमत्कार होता है शरीर मेंलेख पढ़ें
ब्रह्मचर्य रक्षा के 30 उपायपढ़े
चीनी जहर और गुड़ अमृत हैपूरा लेख पढ़ें
रोग पर्तिरोधक शमता को केसे बढ़ाएं पूरा लेख पढ़ें
भृंगराज के अनेको फायेदे लेख पढ़ें

संतान उत्पत्ति के लिए तुलसी का प्रयोग

औषधि बनाने की विधि , 200 ग्राम तुलसी के बीज ले ले और 500 ग्राम धागे वाली मिश्री को पीस लें अब सुबह और शाम को इसका गाय के दूध के साथ प्रयोग करें इस औषधि के प्रयोग से नपुंसकता, नामर्दी आदि की शिकायत भी हमेशा के लिए दूर हो जाती है और मनुष्य को संतान सुख की प्राप्ति होती है। परन्तु ब्रह्मचर्य का पालन आवश्यक है।

गला बैठ जाए तो तुलसी का यह प्रयोग कीजिए

कई बार व्यक्तियों का गला बैठ जाता है और उन्हें अनेकों प्रकार की समस्याओं का सामना करना पड़ता है केवल गला बैठ जाने के कारण।

ओषधि प्रयोग को विधि, लगभग 4 पत्ते तुलसी के लेले और थोड़ी सी धागे वाली मिश्री ले ले और एक दाना काली मिर्च का ले ले और इन्हें चूसे ऐसा करने से जो आपके गले की समस्या है गला बैठ गया है यह काफी ज्यादा इसमें लाभ देगा आपको।

कान दर्द में तुलसी का प्रयोग


Tulsi Benefits से कान के रोगों का इलाज यदि किसी को कान में दर्द हो जाए या किसी भी कारण से कान में दर्द हो रहा हो तो आप तुलसी के कुछ पत्ते लेकर उनका रस निकाल लीजिए अब आपको 4 बूंद रस कान में डालना है दोनों कानों में 4-4 बूंद डालनी है ऐसा करने से तुरंत कान दर्द में आराम मिलता है।

बुखार को दूर करने के लिए तुलसी के औषधीय प्रयोग

यदि आपको बार-बार बुखार आता है आप को बुखार किसी भी कारण से हो तो तुलसी का काढ़ा इसमें बहुत ही ज्यादा लाभदायक सिद्ध होता है खासतौर से जो श्यामा तुलसी होती है उसके अंदर औषधीय गुण अधिक मात्रा में होते हैं।

यदि आप श्यामा तुलसी का काढ़ा बनाकर रोज पिए तो आपका बुखार ठीक हो जाता है और शरीर में कहीं पर जोड़ों का दर्द भी है बुखार के कारण तो वह भी ठीक हो जाता है।

चिकनगुनिया, डेंगू, मलेरिया आदि में काफी लाभ मिलता है ।

मैने (अमित आर्य) खुद अपना चिकनगुनिया श्यामा तुलसी के काढ़े से ठीक किया था। आप चाहे तो इसमें गिलोय भी डाल सकते हो तो आप इसका प्रयोग कीजिए और लाभ उठाइए।

यदि आप इस वेबसाइट को आगे बढ़ाने में मेरा सहयोग करना चाहते है और युवक युवतियों को जागरूक करने में मेरा सहयोग करना चाहते है तो आप दान के माध्यम से मेरा सहयोग कर सकते है। दान देने के लिए Donate Now बटन पर क्लिक कीजिये।

Veer Savarkar

Leave a comment