व्यायाम के लाभ ब्रह्मचर्य के साधन पार्ट4

शौच, दंत धवन, और मुख आदि अंगों की शुद्धि के पश्चात और स्नान से पूर्व प्रतिदिन प्रत्येक व्यक्ति खासकर ब्रह्मचारी को नियमित शारीरिक व्यायाम करना चाहिए साधारण व्यक्ति चाहे स्त्री हो या पुरुष जो भी भोजन करता है उसे व्यायाम की उतनी ही आवश्यकता है जितनी भोजन की इसका कारण स्पष्ट है शरीर में व्यायाम … Read more व्यायाम के लाभ ब्रह्मचर्य के साधन पार्ट4

दांतों और मसूड़ों को मजबूत करने के उपाय ब्रह्मचर्य के साधन पार्ट3

दांतों और मसूड़ों को मजबूत करने के उपाय ब्रह्मचारी ही क्या प्रत्येक मनुष्य को प्रातः काल उठकर चक्षु स्नान उषा पान एवं सोच के पश्चात ऊपरी भाग को शुद्ध करना चाहिए रात्रि में सोकर जो प्रातः मनुष्य उठता है मुंह के अंदर जमा हुआ गंदा मल मिलता है जिससे मुंह और दांतों में से दुर्गंध … Read more दांतों और मसूड़ों को मजबूत करने के उपाय ब्रह्मचर्य के साधन पार्ट3

चक्षु स्नान उष:पान और शौच आदि ब्रह्मचर्य के साधन पार्ट 2 Free Pdf Download

प्रातः काल उठकर ईश्वर चिंतन के पश्चात चक्षु:स्नान करना चाहिए जिस की विधि निम्न प्रकार से हैं। उषा पान शुद्ध जल जो ताजा और वस्त्र से छना हुआ हो लेकर इससे मुंह को इतना भर लो कि उसमें और जल ना आ सके अर्थात पूरा भर ले इस जल को मुख में ही रखना है … Read more चक्षु स्नान उष:पान और शौच आदि ब्रह्मचर्य के साधन पार्ट 2 Free Pdf Download