Category Archives: vedic books

Satyarth Prakash Pdf Download In Hindi

Satyarth prakash सत्यार्थ प्रकाश पुस्तक एक ऐसी क्रांतिकारी किताब है जिसने भी इस किताब को पढ़ा है उस व्यक्ति ने अपना तो जीवन बदल लिया है साथ ही साथ अनेकों का जीवन बदल दिया हमारे क्रांतिकारी इस पुस्तक से प्रेरणा प्राप्त करते थे यह Satyarth prakash पुस्तक ऐसी है जो क्रांतिकारियों को और देश भक्तों को पैदा करती है श्री राम प्रसाद बिस्मिल जी महान क्रांतिकारी गुरु जिनके संगठन में चंद्रशेखर आजाद , भगत सिंह जैसे महान क्रांतिकारी शामिल हुए थे राम प्रसाद बिस्मिल जी की यदि आप जीवनी पढ़ेंगे तो उसमें बिस्मिल जी ने कहा है कि सत्यार्थ प्रकाश ने उनके जीवन का तख्ता ही बदल दिया था Satyarth prakash पढ़ने के बाद में उन्होंने ब्राहाचार्य का पालन शुरू किया और योग साधना में उन्होंने एक अच्छी अवस्था प्राप्त की थी।

satyarth prakash dayanand saraswati in hindi pdf

व्यायाम का महत्व पुस्तक यहा से डाउनलोड करे

आपको दोस्तों जानकर हैरानी होगी कि अंग्रेजो ने कई बार Satyarth prakash को बैन लगाने का भी प्रयास किया था उनका प्रयास यह क्यों था आप सोच ही सकते हैं अंग्रेज हर उस इंसान से हर उस वस्तु से खौफ खाते थे जो कि इस आर्यवर्त (भारत) देश को आजाद करवाने के लिए अपना कार्य करती हो या फिर यहां के जो युवा है यहां के जो व्यक्ति हैं उनको उनके संस्कृति के प्रति दृढ़ विश्वास दिलाने पर यकीन करती हो तो अंग्रेजों का सत्यार्थ प्रकाश से डरना जायज़ सी बात थी क्योंकि इस पुस्तक को पढ़ने के बाद में हर एक व्यक्ति क्रांतिकारी बन जाता था और सबसे बड़ी बात जो ईसाई थे वह भारत वासियों का धर्म परिवर्तन करना चाहते थे अंग्रेजों का मकसद था कि यहां के लोगों को इसाई बना दिया जाए लेकिन यह पुस्तक सत्यार्थ प्रकाश जो पढ़ लेता था वो कभी ईसाई और मुस्लिम या कोई भी हो उनके जाल में नहीं फंसता था बल्कि फसे हुओ को निकालता था। अंग्रेज याहां के व्यक्तियों को इसाई बनाना चाहते थे और यह पुस्तक उन ईसाई और मुस्लिम के आगे सबसे बड़ी रोड़ा बन गई थी।

Click here Saatyarth Prakash Pdf Download In Hindi

Click here सत्यार्थ प्रकाश pdf Download In English

Click here satyarth prakash pdf Download In Bengali

Click here सत्यार्थ प्रकाश pdf Download In French.

Click here सत्यार्थ प्रकाश pdf Download In Urdu.

Click here saatyarth prakash pdf Download In Malayalam.

Click here सत्यार्थ प्रकाश pdf Download In Oriya.

Click here saatyarth prakash pdf Download In Marathi.

Click here satyarth prakash pdf Download In Gujrati.

Click here satyaarth prakash pdf Download In Dutch.

Click here satyarth prakash pdf Download In Chinese.

Manusmriti कहा से खरीदे Manusmriti In Hindi

Manusmriti मनुस्मृति के बारे में आपने दूसरों से सुना होगा कि मनुस्मृति में यह लिखा है मनुस्मृति में वह लिखा है Manusmriti में मांस खाना लिखा है Manusmriti में जात पात लिखी है ना जाने कैसी-कैसी बातें आपने विधर्मियों के मुंह से मनुस्मृति के बारे में सुनी होगी।

Manusmriti

जर्मनी के महान दार्शनिक फ्रेडरिक नीत्शे ने एक बात कही थी उन्होंने कहा था कि मनुसमृति बाइबल से भी श्रेष्ठ ग्रंथ है, बल्कि मनुस्मृति की तुलना बाइबल से तो की ही नहीं जा सकती यदि कोई मनुस्मृति की तुलना बाइबल से करता है तो यह महापाप है।

Manusmriti सभी हिन्दुओ जरूर खरीदे

लेकिन अधिकतर हिंदुओं ने Manusmriti को पढ़ने का प्रयास तक नहीं किया होगा हिंदू जानते ही नहीं कि उनकी Manusmriti में क्या लिखा है बस वह तो विधर्मियों की बातें सुनते रहते हैं और उन्हें सही जवाब भी नहीं दे पाते हैं। इसीलिए आज हम आपको बताएंगे कि आप मनुस्मृति कहां से खरीद सकते हैं और विधर्मियों को उचित उत्तर दे सकते हैं विधर्मियों की बोलती बंद कर सकते हैं।

मनुस्मृति के बारे में जर्मनी के महान दार्शनिक फ्रेडरिक नीत्शे ने एक बात कही थी उन्होंने कहा था कि मनुसमृति बाइबल से भी श्रेष्ठ ग्रंथ है, बल्कि मनुस्मृति की तुलना बाइबल से तो की ही नहीं जा सकती यदि कोई मनुस्मृति की तुलना बाइबल से करता है तो यह महापाप है। आप जर्मनी के इन महान दार्शनिक के विचारों से समझ ही गए होंगे कि मनुस्मृति कितना अधिक महत्व रखती है मात्र कुछ दुष्टों के मिलावट कर देने से मनुस्मृति का महत्व खत्म नहीं हो जाता।

महर्षि मनु ही संसार में ऐसे पहले व्यक्ति हुए हैं जिन्होंने संसार को एक व्यवस्थित नियमबद्ध नैतिक और आदर्श मानवीय जीवन शैली की पद्धति सिखायी है। महर्षि मनु को मानव का आदि पुरुष भी कहा जाता है महर्षि मनु द्वारा रचित मनुस्मृति इतिहास का सबसे पुरातन धर्मशास्त्र है।

Manusmriti रामायण में महर्षि वाल्मीकि ने मनु को एक प्रामाणिक धर्मशास्त्रज्ञ के रूप में कहा है

करोड़ों सालों तक मनुसमृति हमारा संविधान रहा है Manusmriti के आधार पर ही सारे निर्णय होते थे दुष्टों का दंड दिया जाता था और किसी के साथ भी कोई भेदभाव नहीं होता था मनुस्मृति में आप पाएंगे कि ऋण क्या होता है ऋण को चुकाने की पद्धति क्या है आखिरकार ब्याज दिया कितना जाए यह सब कुछ आपको मनुसमृति में मिल जाएगा।

आज कुछ नवबोध भीम वादी मनुस्मृति के बारे में दुष्प्रचार करते हैं ना जाने कैसी-कैसी बातें Manusmriti के बारे में बोलते हैं जो कि मनुस्मृति में है ही नहीं या फिर उसमें मिलावट कर दी गई है जब आप मनुसमृति को पढ़ेंगे तो आपको पता चलेगा कि सर्वप्रथम महर्षि मनु ने क्या कहा और बाद में उस बात के विपरीत मिलावट कर दी गई उससे आप अंदाजा लगा पाएंगे कि सत्य क्या है और असत्य क्या है

दोस्तों जो दुष्ट बुद्धि के होते हैं तामसिक बुद्धि के होते हैं जो निरी निम्न कोटि की बुद्धि के होते हैं वह कभी भी सत्य को जानने का प्रयास नहीं करते वह सिर्फ और सिर्फ असत्य को जानकर ही भ्रांतियां फैलाते रहते हैं कभी यह जानने का प्रयास ही नहीं करते कि पहले तो ऋषि ने कुछ और कहा था बाद में जो उसके बाद के विपरीत बाते लिखी गई है वह बात ऋषि की कही हुई नहीं है वह तो दुष्ट और विधर्मियों की लिखी गई है तो भला विधर्मियों की बातों को सत्य मानकर कितना हाय तौबा मचाते हैं।

रामायण में महर्षि वाल्मीकि ने मनु को एक प्रामाणिक धर्मशास्त्रज्ञ के रूप में कहा है और हिंदुओं में भगवान के रूप में पूज्य श्री राम अपने आचरण को शास्त्र सम्मत सिद्ध करने के लिए उस के समर्थन में मनु के श्लोकों को उध्दृत करते हैं।

मनुस्मृति कहां से खरीदें

जो पता मैं आपको मनुसमृति खरीदने के लिए दूंगा वहां से आपको 2 तरीके की मनुस्मृति मिलेंगी एक मनुस्मृति विशुद्ध मनुस्मृति है जिसके अंदर कोई मिलावट नहीं है उसमें से मिलावट को निकाल दिया गया है। और एक सिर्फ c है जिसके अंदर आपको मिलावटी श्लोक भी मिलेंगे और सही श्लोक भी मिलेंगे उसमें से आपको निर्णय करना होगा कि कौन सही है और कौन गलत है मैं आपको सलाह दूंगा कि आप यह दोनों ही मनुस्मृति मंगवा लीजिए

विशुद्ध मनुस्मृति

Manusmriti

मनुस्मृति

Manusmriti

मनुस्मृति मंगवाने का पता  – 427 , मंदिर वाली गली, नया बांस, खारी बावली, दिल्ली -110006
दूरभाष- 011-43781191 , 9650522778

आप हमारी वीडियो भी देख सकते है

Keyword- manusmriti in hindi,original manusmriti in hindi pdf,manusmriti pdf in marathi,original manusmriti in hindi pdf